Home » Pankaj Shukla

झाड़े रहौ कलेक्टरगंज-जब बंबई म भै रहै सोने कि बरसात..

पंकज शुक्ल झाड़े रहौ कलेक्टरगंज जब बंबई म भै रहै सोने कि बरसात.. पंकज शुक्ल जहाज त निकरा सामान ना जाने कहां कहां जाक गिरा और कित्तेन केरि खोपड़ि फाटि गै। उई जहाज म तमाम सामानन क साथ सोनौ लदा रहे। सोने केरि सिल्ली औ बिस्कुट बंबई म बंदरगाह... 

झाड़ै रहो कलक्टरगंज- कौआ कान लइगा..

पंकज शुक्ल झाड़ै रहो कलक्टरगंज कौआ कान लइगा.. पंकज शुक्ल नई फौज क मुंहि मा हिंदी सिनेमा क्यारौ खून लागि चुका है। इ पंचै प्रोड्यूसर केरि जेब त अखिरी चवन्नी निकारै क चक्कर म याक अइसे पेशा क बदनाम कई दीन्हेनि, जेहि कि धार तेरे काल्हि लगे... 

झाड़ै रहो कलक्टरगंज-काहे रिसिया गे बाबूजी के मुन्ना?

पंकज शुक्ल झाड़ै रहो कलक्टरगंज काहे रिसिया गे बाबूजी के मुन्ना? पंकज शुक्ल अपने इलाहाबाद क मुन्ना बुढ़ा तो गे हे हैं, आजु काल्हि पिच्चरौ याक ये ही नाम केरि कई रहे। पिच्चर क्यार नांव है– बूढ़ा। वइसे हमारा परेंदे वाले मामा (जहां कौन्यो... 
Tags:

झाड़े रहौ कलक्टरगंज-खुलै क चाहीं अवधी औ भोजपुरी एफएम चैनल

पंकज शुक्ल झाड़े रहौ कलक्टरगंज खुलै क चाहीं अवधी औ भोजपुरी एफएम चैनल पंकज शुक्ल बिहार म अगर कौनो भोजपुरी एफएम चैनल सुरू होए और वहि पर भोजपुरी फिल्मी गीतन क साथ साथ भोजपुरी, मैथिली, मगही क्यार भजन, लोकगीत औ दूसर संगीत प्रसारित कीन जाए... 
Tags: ,

झाड़े रहौ कलेक्टरगंज- सनीमा म जुम्मा क जलाल

पंकज शुक्ल झाड़े रहौ कलेक्टरगंज सनीमा म जुम्मा क जलाल -पंकज शुक्ल पहली सनीमा क्यार प्रचार करै क्या जादा साधन न रहैं। अब तो रेडियो, अखबार और टेलीविजन पर महीनन पहिले हे ते नई पिक्चर क्यार गाना बजाना सुरू हुई जाति है। लेकिन, पचास साल पहिले... 

होरी म दादा देवर लागैं

झाड़े रहौ कलेक्टरगंज होरी म दादा देवर लागैं पंकज शुक्ल होलि क दिन जइसहे नियरे आवै लागत हैं करेजे में याक हूक उठै लागत है कि कइसे घरै पहुंचा जाए। अवध के इलाके म याक बात बहुत मसहूर है कि लरिका बच्चा पूरा साल चाहे चहां रहैं होलि म सबके सब... 

कित्ती मिठास है बाबा-दादी की बोली मा

पंकज शुक्ल झाड़े रहौ कलेक्टरगंज कित्ती मिठास है बाबा-दादी की बोली मा पंकज शुक्ल पहिले राजकपूर और राजश्री की फिल्मन म याक दुई डॉयलॉग ज़रूर अवधी म होति रहै। लेकिन फिर पहिलै दिलीप कुमार और बादि म अमिताभ बच्चन अवधी-भोजपुरी सब याके म मिलाए... 
Tags: , , , , , , , , , , , ,

झाड़ै रहौ कलक्टरगंज! आखिर कौन लाल जड़े रहैं पीपली लाइव म?

-पंकज शुक्ल झाड़ै रहौ कलक्टरगंज! आखिर कौन लाल जड़े रहैं पीपली लाइव म? –पंकज शुक्ल “का पीपली लाइव क ऑस्कर म एहिके मारे पठवा गा रहै कि स्लमडॉम मिलिनेयर म भै भारत की बेइज्जती कम परिगै रहै औ आमिर चाहति रहैं कि दुनिया तनुक हमरी गरीबी प... 

Bihardays introduces a column in Awadhi by Pankaj Shukla

Bihardays introduces a column in Awadhi by Pankaj Shukla Bihar Days is proud to have Pankaj Shukla as columnist Bihardays is proud to have Panakj Shukla on its panel of columnists. Active in a number of fields ranging from print media [Regional Editor, Nayee Duniya] to film making [among others, maker of Bhole Shankar, 2008, a Bhojpuri film], Pankaj Ji is equally comfortable in cultures and places like Mumbai where he lives, as well as Unnao, UP, where he was born. bihardays hopes that Pankaj Ji’s Awadhi column ‘ झाड़ै रहौ कलक्टरगंज!‘ on Fridays... 
© 2010 BiharDays    
   · RSS · ·